Kargil Vijay diwas 26 July:–(‘ऑपरेशन विजय’ )भारत के वीरपुत्रो की कुर्बानियां

कारगिल विजय दिवस

Kargil Vijay diwas:–(ऑपरेशन विजय) भारत के वीरपुत्रो की कुर्बानियां 

भारत में प्रत्येक वर्ष 26 जुलाई को Kargil Vijay diwas:–(ऑपरेशन विजय) मनाया जाता है। इस दिन भारत और पाकिस्तान की सेनाओं के बीच वर्ष 1999 में कारगिल युद्ध हुआ था जो लगभग 84 दिनों तक चला और 26 जुलाई के दिन उसका अंत हुआ और इसमें भारत विजय हुआ।

कारगिल विजय दिवस Kargil Vijay diwas
कारगिल विजय दिवस (ऑपरेशन विजय)

Kargil Vijay diwas:–

26 जुलाई, 1999 का वो दिन जो भारतीय सेना की जांबाजी, पराक्रम और बहादुरी के लिए जाना जाता है। (Kargil Vijay diwas) यही वो दिन है जब भारत ने कारगिल युद्ध में पाकिस्तानी सेना को धूल चटाई थी। भारत के सैकड़ों वीर जवानों की शहादत को याद करते हुए 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है।

इस लड़ाई की शुरुआत 3 मई 1999 को हुई थी, जब पाकिस्तान ने कारगिल की ऊंची पहाड़ियों पर 5 हजार से ज्यादा सैनिकों  के साथ घुसपैठ कर कब्जा जमा लिया था। जैसे ही भारतीय जवानों को इसकी भनक लगी तो पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़ने के लिए ‘ऑपरेशन विजय‘ चलाया गया। जिसके बाद 26 जुलाई को भारत ने पाकिस्तान को युद्ध में हराया और भारत की जीत का ऐलान हुआ।

कारगिल विजय दिवस
Kargil Vijay Diwas

Kargil Vijay Diwas:– (ऑपरेशन विजय)

पाकिस्तानी सेना ने 5 मई 1999 को भारत के 5 सैनिकों को मार दिया था, उसके बाद भारतीय सेना की ओर से 10 मई 1999 को ‘ऑपरेशन विजय’ की शुरुआत कर दी गयी है। लगभग 2 महीने तक चले इस युद्ध के दौरान भारतीय सेना ने 20 जून 1999 को टाइगर हिल पर लगातार 11 घंटे तक लड़ाई लड़ने के बाद प्वाइंट 5060 और प्वाइंट 5100 पर अपना कब्जा कर लिया। बिल क्लिंटन ने नवाज शरीफ की मुलाकात के बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने 5 जुलाई 1999 को अपने सैनिकों को वापस बुलाने का आदेश दिया। पाकिस्तानी सेना के पीछे हटने के बाद भारतीय सेना ने 11 जुलाई 1999 को बटालिक की चोटियों पर भी अपना अधिकार जमा लिया। अंत में 14 जुलाई को भारतीय सेना ने ‘ऑपरेशन विजय’ के सफल होने की घोषणा की। 26 जुलाई 1999 को कारगिल युद्ध पूर्ण रूप से समाप्त हो गया और इसी दिन को भारत में Kargil Vijay diwas:–(ऑपरेशन विजय) के जाता है।

कारगिल युद्ध के 24 साल बाद भी देश के जांबाज जवानों की वीरता देशभक्ति का जज्बा भर देती है। 25 मई से 26 जुलाई 1999 तक हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध में 60 दिन में हिमाचल के 52 रणबांकुरों ने शहादत पाई थी। देश की मिट्टी का एक जर्रा भी दुश्मनों को नहीं ले जाने दिया। देवभूमि के नाम से विख्यात हिमाचल प्रदेश को वीरभूमि का गौरव दिलाया। कारगिल में कांगड़ा जिले के सबसे अधिक 15 जवान शहीद हुए थे। मंडी जिले से 10, हमीरपुर के आठ, बिलासपुर के सात, शिमला से चार, ऊना से दो, सोलन और सिरमौर से दो-दो जबकि चंबा और कुल्लू जिले से एक-एक जवान शहीद हुआ।

अदम्य वीरता और शौर्य के लिए चार परमवीर चक्र दिए थे, जिसमें से दो हिमाचल के जवानों ने पाए ।

NARENDRA MODI :–

कारगिल विजय दिवस भारत के उन अद्भुत परक्रमो की शौर्यगाथा को सामने लाता है, जो देशवासियों के लिए सदैव प्रेरणा शक्ति बने रहेंगे। इस विशेष दिवस पर मैं उनका हृदय से नमन और वंदन करता हूं। जय हिन्द 

न्यायमूर्ति सुनीता अग्रवाल (Sunita Agarwal ) :– गुजरात की दूसरी महिला चीफ जस्टिस – Second women lady chief justice

https://sarkarirozi.com/delhi-high-court-hjs/?amp=1

 

One thought on “Kargil Vijay diwas 26 July:–(‘ऑपरेशन विजय’ )भारत के वीरपुत्रो की कुर्बानियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *